फर्ज के प्रति लापरवाही पर थानेदार होगें निलंबित- एडीजी प्रेम प्रकाश - शहरे अमन

अपने जीवन को शानदार बनाएं, समाचार पत्र पढ़ें

Breaking

Post Top Ad

Responsive Ads Here

Jul 20, 2022

फर्ज के प्रति लापरवाही पर थानेदार होगें निलंबित- एडीजी प्रेम प्रकाश

  कौशाम्बी | कब्जाधारको के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज करके जेल भेजने व माल बरामद करने का सराय आकिल थानाध्यक्ष को कडी फटकार के बाद दिया निर्देश
  कार्रवाई ना होने पर थानेदार को सस्पेंड करने का एसपी को दिया निर्देश
कौशाम्बी। वरिष्ठ पत्रकार अरुण कुमार जायसवाल के सराय अकिल थाना क्षेत्र के फकीराबाद चौराहा स्थित मकान पर गत 21 जून को ताला तोड़कर जबरन कब्जा करने वाले बुद्धपुरी सराय अकिल के निवासी अरविंद सिंह पुत्र राम लखन सिंह व उनके बेटे नितिन सिंह आदि लोगों के खिलाफ तहरीर देने के बाद अब तक कार्रवाई नहीं हो सकी। जोकि पुलिस की फर्ज के प्रति लापरवाही का जीता जागता प्रमाण है। जिससे पत्रकारों में भारी आक्रोश व्याप्त है। जिले के पत्रकारों ने पुलिस की कार्यशैली पर उंगली उठाते हुए घटना को नजरअंदाज करने वाले थानाध्यक्ष के खिलाफ कटु निंदा करते हुए कार्रवाई की मांग किया है। इंसाफ नहीं मिलने के कारण पत्रकार ने मंगलवार को पुलिस ऑफिस में आयोजित जनसुनवाई में एडीजी प्रेम प्रकाश प्रयागराज जोन प्रयागराज से मिलकर अपनी फरियाद सुनाई । इस दौरान पत्रकार की आंखों से आंसू छलक उठे। पत्रकार की फरियाद को गंभीरता से लेते हुए तत्काल चायल सीओ को निर्देशित किया कि थानेदार से फोन पर बात कराएं। थानेदार से वार्ता करते हुए एडीजी ने कड़े शब्दों में फटकार लगाते हुए थानेदार सुनील सिंह को स्पष्ट रूप से निर्देशित किया है कि गुंडागर्दी करने वाले कब्जा धारियों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज करके जेल भेजने का काम करें। वही ताला खुलवा कर पत्रकार के मकान पर कब्जा हटवाते हुए माल बरामद करने का कडे निर्देश दिया है । वहीं एसपी हेमराज मीना को निर्देशित किया कि मंगलवार तक पत्रकार के मकान पर से अवैध कब्जा नही हटाया गया तो थानेदार को सस्पेंड करके अवगत करायें। बता दें कि वरिष्ठ पत्रकार अरुण कुमार जायसवाल सन् 2011 से उत्तर प्रदेश शासन द्वारा मान्यता प्राप्त पत्रकार की श्रेणी में रहे हैं, 2011 से 2018 तक के कार्यकाल में बेदाग छवि के रूप में जाने जाने वाले पत्रकारों के श्रेणी में रहे और वर्तमान मे स्पष्ट आवाज लखनऊ मे बतौर कौशाम्बी जिला संवाददाता के पद पर कार्यरत रहकर पूरी ईमानदारी के साथ अपने कर्तव्यों का निर्वहन करते चले आ रहे हैं उन पर अब तक एक भी दाग नहीं लगे। उधर एडीजी के न्याय दिलाने के आश्वासन पर पीड़ित पत्रकार ने मंगलवार की दोपहर थाने में पहुंचकर फिर से एडीजी के फरमान को थानाध्यक्ष को सौंपकर न्याय की मांग की है। उधर कार्रवाई न होने से पत्रकार जगत में पुलिस के खिलाफ भारी आक्रोश व्याप्त है। पत्रकारों ने बैठक करके पुलिस की कड़ी निंदा करते हुए पत्रकार को न्याय दिलाने का भरोसा जताया है।

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Responsive Ads Here

Pages