जिलाधिकारी ने किसानों की समस्याओं को प्राथमिकता के आधार पर निस्तारित करने के दिये निर्देश - शहरे अमन

अपने जीवन को शानदार बनाएं, समाचार पत्र पढ़ें

Breaking

Post Top Ad

Responsive Ads Here

Jul 20, 2022

जिलाधिकारी ने किसानों की समस्याओं को प्राथमिकता के आधार पर निस्तारित करने के दिये निर्देश

कौशाम्बी | जिलाधिकारी सुजीत कुमार की अध्यक्षता में उदयन सभागार में किसान दिवस का आयोजन किया गया। बैठक में जिलाधिकारी ने किसानां की समस्याओं को सुना एवं सम्बन्धित अधिकारियों को प्राथमिकता के आधार पर निस्तारित करने के निर्देश दिये। 
बैठक में किसानों द्वारा बताया गया कि वर्षा न होने के कारण धान की रोपाई/सिंचाई में समस्या आ रही हैं, इस सम्बन्ध में अधिशासी अभियंता सिंचाई ने बताया कि किशनपुर पम्प नहर के सभी पम्प संचालित हैं तथा निचली गंगा नहर, प्रखण्ड फतेहपुर, सिंचाई खण्ड फतेहपुर में बैराज से 50 से 60 प्रतिशत ही पानी उपलब्ध कराया जा रहा है, जिस पर जिलाधिकारी ने अधिशासी अभियंता सिंचाई को आ रही समस्याओं का निस्तारण कराते हुए सभी नहरों को संचालित करने के निर्देश दियें। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि सभी जेई क्षेत्र में भ्रमणशील रहकर आ रही समस्याओं का निस्तारण करना सुनिश्चित करें, जिससे किसानां को सिंचाई करने में कोई परेशानी न होने पाये। उन्होंने अधिशासी अभियंता विद्युत को निर्देशित किया कि ट्रान्सफार्मर आदि खराब होने पर तत्काल ठीक कराया जाय तथा पर्याप्त विद्युत आपूर्ति सुनिश्चित किया जाय। 
जिलाधिकारी ने किसानों की शिकायत पर मुख्य पशु चिकित्साधिकारी से कहा कि अभियान चलाकर निराश्रित गौवंशों को पकड़कर गौशालाओं में संरक्षित किया जाय तथा यह सुनिश्चित किया जाय कि गौशालाओं से गोवंशों को छोड़ने की शिकायत न आने पाये। उन्होंने सभी पशु चिकित्साधिकारियों को नियमित रूप से गौशालाओं का निरीक्षण कर सभी आवश्यक व्यवस्थायें सुनिश्चित रखने के निर्देश दियें। उन्होंने जिला कृषि अधिकारी से कहा कि फसल क्षति होने पर किसानों को अधिक से अधिक मुआवजा दिलाये जाने हेतु सभी आवश्यक कार्यवाही सुनिश्चित किया जाय।  
मुख्य पशु चिकित्साधिकारी ने किसानों से सहभागिता योजना के तहत गोवंशों को लेने का आग्रह किया। बैठक में कृषि वैज्ञानिक डॉ0 नवीन कुमार शर्मा द्वारा किसानों को मौसम प्रतिकूल होने के कारण धान की रोपाई में आ रही समस्याओं का समाधान, जल प्रबन्धन, उर्वरक प्रबन्धन एवं फसलों को रोग से बचाने हेतु उपायों के बारे में विस्तार से जानकारी दी गयी। उन्होंने कहा कि जो किसान धान की रोपाई नहीं कर पा रहें हैं वे ज्वार, बाजरा व अरहर आदि की बुआई कर सकतें हैं। इस अवसर पर मुख्य विकास अधिकारी डॉ0 रवि किशोर त्रिवेदी, जिला कृषि अधिकारी मनोज गौतम सहित अन्य सम्बन्धित अधिकारीगण उपस्थित रहें।

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Responsive Ads Here

Pages