गन्ना समितियों में कार्यरत कर्मियों को मिलेगा पंचम एवं छठवें वेतनमान का लाभ। - शहरे अमन

अपने जीवन को शानदार बनाएं, समाचार पत्र पढ़ें

Breaking

Post Top Ad

Responsive Ads Here

Jan 5, 2022

गन्ना समितियों में कार्यरत कर्मियों को मिलेगा पंचम एवं छठवें वेतनमान का लाभ।


लखनऊः 05 जनवरी, 2022 प्रदेश की सहकारी गन्ना समितियों में कार्यरत कार्मिकों को फिर से खुशखबरी मिलने जा रही है, क्योंकि निबन्धक, सहकारी गन्ना एवं चीनी मिल समितियों द्वारा पॅचम एवं छठे वेतनमान की समितियों में कार्यरत कार्मिकों को भी अन्य गन्ना समितियों की तरह बढ़े हुए महंगाई भत्ते का लाभ प्रदान किया गया है।

इस सम्बन्ध में विस्तृत जानकारी देते हुए प्रदेश के निबन्धक, सहकारी गन्ना समितियाँ, उ.प्र., श्री संजय आर. भूसरेड्डी द्वारा बताया गया कि, प्रदेश की सहकारी गन्ना समितियों में उच्चीकृत वेतनमान स्वीकृत किये जाने तथा उच्चीकृत वेतनमान में कार्यरत कार्मिकों के डी.ए. में बढ़ोत्तरी के बाद पॅचम एवं छठे वेतनमान की समितियों में कार्यरत कार्मिकों को भी मॅहगाई भत्ते की बढ़ी हुई किश्त की स्वीकृति प्रदान की गई है।

निबन्धक ने बताया कि, सहकारी गन्ना समितियों के कार्मिकों को बढ़े हुए महंगाई भत्ते की किश्त का लाभ दिये जाने से पूर्व अन्य गन्ना समितियों की भॉति पॅचम एवं छठे वेतनमान वाली समितियों की वित्तीय स्थिति का आंकलन भी नियमानुसार करने के उपरान्त तथा समिति के आर्थिक हितों को ध्यान में रखते हुए बढ़े हुए डी.ए. के भुगतान की स्वीकृति प्रदान की गई है।

यह भी उल्लेखनीय है कि, अभी हाल ही में प्रदेश की सक्षम पाई गयी गन्ना समितियों में लागू छठे वेतनमान को उच्चीकृत कर सातवॉ वेतनमान अनुमन्य किया गया है। पॅचम एवं छठे वेतनमान में कार्यरत गन्ना समितियों के कर्मचारियों द्वारा अन्य सहकारी गन्ना समितियों की तर्ज पर महंगाई भत्ते की बढ़ोत्तरी की उम्मीद जताई जा रही थी, क्योंकि महंगाई भत्ते में बढ़ोत्तरी के बाद उनकी सैलरी में भी खासा इजाफा होगा। निबन्धक द्वारा समिति कार्मिकों के आर्थिक हितों में अभिवृद्धि करने के साथ-साथ समिति कार्मिकों से अपेक्षा भी की है कि, वह "गन्ना विभाग किसान के द्वार" की संकल्पना को साकार करने तथा विभाग की विश्वसनीयता अक्षुण्य रखने के उद्देश्य से पूर्ण मनोयोग से अपने दायित्वों का निर्वहन करें, साथ ही अपनी सहकारी समितियों को मजबूत करने हेतु सदैव प्रयासरत रहें।

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

Responsive Ads Here

Pages